प्याऊ से सेवा और खेती से कमाई कर रहीं महिलाएं

महिलाएं जहां अब आत्मनिर्भर होने लगी वहीं अब समाजसेवा में भी आगे आने लगीं. पूरे मध्य भारत और दक्षिण में पड़ रही भीषण गर्मी के बीच महिलाएं लोगों की ठंडे पानी से प्यास बुझा रहीं.

author-image
विवेक वर्द्धन श्रीवास्तव
एडिट
New Update
प्याऊ से सेवा और खेती से कमाई कर रहीं महिलाएं

सारागांव रोड रेलवे स्टेशन पर स्वाभिमान से निःशुल्क सेवा देती SHG की सदस्य (Image: Ravivar Vichar)

CG के जांजगीर चांपा जिले में self help group की महिलाओं ने अभिनव पहल की.अपने कारोबार से अलग रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की ठंडे पानी से प्यास बुझा रहीं. क्षेत्रवासी  इस पहल की सराहना कर रहे. 

स्टेशन पर प्याऊ सेवा के लिए महिलाओं में मचती होड़ 

Janjgir champa जिले के देवरी ब्लॉक अंतर्गत सारागांव रोड रेलवे स्टेशन पर self helf group की महिलाओं में प्याऊ सेवा के लिए होड़ मची हुई है.ये सभी महिलाएं आत्मनिर्भर हैं.  SHG की अमीना देवी,इंदल देवी,विमला और गीता कहती हैं-"हम नियमित रेलवे स्टेशन आ जाते हैं.मुंबई-हावड़ा मेन ट्रेक होने से यात्रियों की सेवा का अवसर ज्यादा मिल रहा.हम अपने काम के अलावा स्टेशन पर अलग-अलग समय सेवा देने आते हैं.हमारे परिवार के सदस्य भी सहयोग करते हैं."

champa station 600 रेलवे स्टेशन पर हर पाली में सदस्य स्वैच्छिक ड्यूटी देते हुए (Image: Ravivar Vichar)          

स्वयं सहायता समूह की ये महिलाएं ठंडे पानी की सुविधा के लिए मटकों का उपयोग कर रहीं.

स्टेशन पर खड़े यात्री सुधीर कुमार ने बताया कि मुझे महिलाओं द्वारा यहां लगाए गए प्याऊ से ठंडा पानी पीने को मिला. 

कारोबार के लिए बन जाती किसान दीदियां 

स्टेशन पर प्याऊ वाली ये चर्चित दीदियां अपने कारोबार के लिए किसान दीदियां बन जाती हैं.

जागृति स्वयं सहायता समूह की श्यामलता,शकुंतला और काजल करियारे कहती हैं-"हमारे समूह का गठन Ajeevika Mission Bihan के तहत किया.हम किसान दीदियां हैं.5 एकड़ ज़मीन हमारे समूह सदस्यों ने मिल कर ली.धान की खेती करते हैं.इसके अलावा हम सब सदस्य हम अपनी खेती से भी कमाई कर लेते हैं.भीषण गर्मी को देखते हुए हमने स्टेशन पर साफ और ठंडा पानी पिलाने की की पहल की."

champa shg kisan did

खेत में काम करतीं SHG की सदस्य जो प्याऊ पर सेवाएं भी दे रहीं (Image: Ravivar Vichar)

Janjgir Champa जिले के जनपद पंचायत बम्हनीडीह के DEO विकास विस्तार अधिकारी भुवनेश्वर प्रसाद साहू बताते हैं-"तीन साल पहले इस समूह का गठन Bihan के तहत किया.महिलाओं ने अपनी मेहनत से 100 क्विंटल धान की पैदावार की.सामाजिक काम में भी ये बहुत आगे हैं."

इन सदस्यों को लेकर सभी लोग सराहना कर रहे.

जांजगीर चांपा के District Mission Manager (DMM) Upendra Dubey कहते हैं-"हमें ख़ुशी है  आजीविका मिशन बिहान से जुड़ीं ये महिलाएं आत्मनिर्भर होने के साथ अब सामाजिक दायित्व भी निभा रहीं."                          

SHG self help group Ajeevika Mission Bihan