महिलाओं ने सजाया स्वाद का संगम

आत्मनिर्भर बनाने के लिए  महिलाओं ने मजदूरी छोड़ हिम्मत दिखाई.एक ऑफिस कैंपस में स्वाद का संगम सजा लिया.इन महिलाओं की हिम्मत की सराहना की जा रही.अब ये अपने हाथों से बने खाने के आइटम लोगों को खिलाएंगी.  

New Update
महिलाओं ने सजाया स्वाद

किरनापुर में कैंटीन की शुरुआत पर जनपद अधिकारी और मिशन अधिकारी (Image: Ravivar Vichar)

MP के Balaghat जिले में किरनापुर ब्लॉक में SHG की महिलाओं ने नया बिज़नेस शुरू किया.समूह की तीन सदस्यों ने जनपद पंचायत कैंपस में Swad Sangm Canteen खोला.केवल तीन दिन में ही महिलाओं द्वारा तैयार आइटम्स का स्वाद लोगों को पसंद आने लगा.

healthy items की हो रही थी लगातार मांग 

किरनापुर के जनपद पंचायत में लगातार healthy food की मांग स्टाफ सदस्य करते रहे.self help group की महिलाओं को  आजीविका मिशन की स्कीम अंतर्गत मौका मिल गया.

kirnapur block के शिव शक्ति स्वयं सहायता समूह की तीन सदस्यों ने मिलकर इस कैंटीन की शुरुआत की. समूह की अंजलि चौरे और जीवनकला बाई ने बताया-"अभी तक कोई खास इनकम नहीं होने से आर्थिक परेशानी थी.अब हमारे लिए ख़ुशी का दिन है जो जनपद ऑफिस में स्वाद संगम कैंटीन खोलने का मौका दिया.हम स्टाफ और ग्राहकों की मांग पर चाय के अलावा सभी तरह का नाश्ता रखेंगे.शुरू से ही अच्छी बिक्री हो रही "  

    KIRNAPUR BALA 600

स्वाद संगम केंटीन में खड़े स्टाफ ग्राहक (Image: Ravivar Vichar)

स्टाफ का कहना है कि इस कैंटीन के पहले हमें चाय-नाश्ता के लिए बाहर जाना पड़ता था.अब सुविधा मिलेगी.   

दो और सेंटर्स पर स्वाद संगम की मिलेगी सौगात  

Naxalites प्रभावित जिले में अब महिलाएं रोजगार के लिए बाहर निकल रहीं. बालाघाट जिले में ही 4 जगह पर स्वाद संगम कैंटीन खुल जाएंगे.किरनापुर ब्लॉक की BM Dileshvari Maravi कहती हैं-"हमारे जनपद ऑफिस में Swad Sangam Canteen से SHG की सदस्य महिलाओं को आर्थिक लाभ के साथ सम्मान मिला.हम लगातार सहयोग कर रहे."

इसके अलावा जिले के ही वारासिवनी ब्लॉक में स्वाद संगम कैंटीन संचालित SHG की महिलाएं ही कर रहीं.

   VARASIVNI SWAD SANAGM 500

वारा सिवनी में भी कैंटीन हुआ शुरू (Image: Ravivar Vichar)

 Balaghat Ajeevika Mission के DM Mukesh Bisen कहते हैं-"जिले में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाया जा रहा.central government की NRETP योजना के तहत स्वाद संगम कैंटीन खुलवाए.इसमें समूह को Food Cluster अंतर्गत लगभग 5 लाख रुपए की सहायता भी दी गई.इसके अलावा बालाघाट और लालबर्रा में भी ये स्वाद संगम खोले जा रहे." 

5 जगह आजीविका कैंटीन की मालकिन बनी SHG महिलाएं 

बालाघाट में ही Ajeevika Canteen भी NRLM योजना के तहत चलाए जा रहे.  Ajeevika Mission के DPM Virendra Tidke ने बताया-"जिले में बालाघाट के सरकारी अस्पताल के अलावा कटंगी,लांजी,किरनापुर और परसवाड़ा में भी आजीविका कैंटीन समूह की महिलाएं चला रहीं.इसमें लगातार सफलता की वजह से आत्मनिर्भर हो गईं."

जिले के कलेक्टर DM IAS Dr.Girish Mishra और जिला पंचायत के CEO DS Ranada भी लगातार और अधिक कैंटीन और नए रोजगार के लिए स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को मौका दे रहे. 

SHG NRLM self help group Ajeevika Mission NRETP Swad Sangm Canteen Food Cluster