SHG की महिलाओं को मिलेगा मेहनत का फल

बेगूसराय जिले में SHG की महिलाओं को उनकी मेहनत का फल मिलेगा. जो महिलाएं उद्यम के क्षेत्र में आगे बढ़ रही केंद्र सरकार उन्हें और अधिक आर्थिक मदद देकर मजबूत बनाएगी. इसकी शुरुआत भी हो गई.  

author-image
विवेक वर्द्धन श्रीवास्तव
एडिट
New Update
SHG की महिलाओं को मिलेगा मेहनत का

बेगूसराय की जीविका दीदी जिसे लोन और योजना का मिलगा फायदा (Image: Ravivar Vichar)

बिहार (Bihar) के बेगूसराय (Begusarai) जिले में स्वयं सहायता समूह (Self Help Group) की सैकड़ों महिलाओं को उनके उद्यमों  को गति देने के लिए प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यम योजना (प्रधानमंत्री माइक्रो फुड प्रोसिंग इंटरप्राइजेज स्कीम) का लाभ मिलेगा. जिले की इन 'जीविका दीदियों' (Jeevika Didi)के लिए केंद्र से करोड़ों रुपए स्वीकृत हुए.

500 से अधिक महिलाओं को 2 करोड़ का फायदा 

बेगूसराय  (Begusarai) जिले में 535 जीविका दीदियों का चयन PMFME Scheme के लिए लिया गया. इस क्षेत्र के सांसद (MP) गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) ने स्वयं सहायता समूह (Self Help Group)  की इन महिलाओं के लिए 1 करोड़ 94 लाख रुपए स्वीकृत करवाए. इस आर्थिक मदद से महिलाएं अपने उद्यम  एवं उत्पाद को और बेहतर बनाएंगी. अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार करेंगी. यह पैसा समूह की महिलाओं को सस्ते ब्याज दर मिलेगा.

बेगूसराय (Begusarai) में किसान उत्पादक संगठन (FPO) और Self Help Group को एकजुट कर मजबूत करने के प्रयास किए. खास बात यह है कि इस जिले में SHG सदस्यों ने पहले लिए गए लोन की किश्तें  समय पर बैंक  में जमा कराई. इन समूह का बेस्ट रिकॉर्ड देख सांसद (MP) गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) ने अतिरिक्त योजना से मदद की अनुशंसा की.begusarai msme new

 बेगूसराय  जिले की जीविका दीदी अपने प्रोडक्ट के साथ (Image Credit: Hindusthan Samachar)

 

मार्केटिंग में मदद और बाजार में बनेगी पहचान 

अभी तक आर्थिक परेशानी के कारण स्वयं सहायता समूह (Self Help Group) से जुडी जैविक दीदियों की परेशानी आर्थिक कमी के चलते मार्केटिंग कमज़ोर होती है. उद्यम योजना के चलते समूह को मार्केटिंग और बाज़ार में ज्यादा अवसर मिलेंगे. 



मंसूरचक प्रखंड (Block) की गणपतौल के ओम स्वयं सहायता समूह एवं सरोज ग्राम संगठन सोनी कुमारी कहती है- "मुझे बहुत ख़ुशी है कि मेरे आवेदन का चयन किया गया. मैं आइसक्रीम का कारोबार करती हूं. अब इस आर्थिक मदद से और अधिक कमाई कर सकूंगी." बेगूसराय  (Begusarai) जिले के ही छौड़ाही की सुंदर जीविका ग्राम संगठन (Village Organization) से जुड़ी बबिता देवी बताती है- "मैं अदौरी, बड़ी, पापड़ आदि बनाने का काम करती हूं. मैंने भी पीएमएफएमई योजना के लिए आवेदन दिया. ख़ुशी है कि चयन हुआ. अब मैं अपने प्रोडक्ट्स का और अच्छे से ब्रांडिंग करूंगी."



बेगूसराय (Begusarai) जिले में यह सभी महिलाएं समूह से जुड़कर अपने अलग-अलग कारोबार कर रहीं हैं.

बेगूसराय ब्लॉक सहित बछवाड़ा, बलिया,वीरपुर, गढ़पुरा,भगवानपुर जैसे कई ब्लॉक में काम कर रही जीविका दीदियों को अलग-अलग पैसा स्वीकृत हुआ. जिससे वे अपना उद्यम आगे बढ़ाएंगी.         

FPO self help group Giriraj Singh Bihar MP Begusarai Jeevika Didi प्रधानमंत्री माइक्रो फुड प्रोसिंग इंटरप्राइजेज स्कीम