UP में सखियों की अब होगी मीटर पर नज़र

उत्तर प्रदेश में सखियों की नज़र अब मीटर पर होगी.स्वयं सहायता समूह से जुड़ीं सदस्य महिलाओं को यह नया अवसर दिया जा रहा. उत्तर प्रदेश में आजीविका मिशन में रोजगार और महिलाओं की कमाई बढ़ाने के लिए यह प्रयोग सरकर करने जा रही. 

author-image
विवेक वर्द्धन श्रीवास्तव
एडिट
New Update
 UP SHG women reading meter

Image : Ravivar Vichar

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के लखनऊ (Lachnow) में लिए गए निर्णय में सरकार ने पॉयलट प्रोजेक्ट (Pilot Project) के तहत यह शुरुआत की. प्रदेश के सभी 75 जिले में यह शुरू होगा. इस काम में SHG की महिलाएं घर-घर जा कर लगे हुए मीटर्स (Meters) की रीडिंग (Reading)  लेंगीं. इसी आधार पर बिजली के बिल जनरेट होंगे.

हर जिले में एक पंचायत से होगी शुरुआत  

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) ने  पॉयलट प्रोजेक्ट (Pilot Project) के तहत 75 जिलों (Districts) को ही कवर किया. इसमें हर जिले की एक-एक पंचायत में यह शुरुआत होगी. आजीविका मिशन के स्वयं सहायता समूह को इस काम के लिए चुना. सूची तैयार कर ली गई. पॉवर कॉर्पोरेशन के  

सुपरिंडेंटेंट इंजिनियर (SE) (कलेक्शन) वीपी सिंह (VP Singh) ने बताया- "मीटर रीडिंग काम के लिए  सभी विद्युत वितरण निगमों के मैनेजिंग डायरेक्टर को 75 विद्युत सखियों की सूची भेज दी. इन सभी को उनके क्षेत्र के लिए आईडी बनवाने और मीटर रीडिंग का काम शुरू कराने के लिए कहा है."

यह सभी नामों की सूची स्टेट स्टेट आजीविका मिशन (Ajeevika Mission) के अधिकारियों ने उपलब्ध करवाई. यह मीटर रीडर सखी (Meter Reader Sakhi) कहलाएंगी. 

meter pic toi new

बिजली मीटर (Image Credits :TOI) 

बढ़ रही सखियों की जवाबदारी 

पूरे देश में इन दिनों स्वयं सहायता समूह (Self Help Group) से महिलाओं को जोड़ना और उन्हें रोजगार के नए मौके देने का काम अलग-अलग प्रदेशों की सराकरें कर रहीं. अभी तक बैंक सखी (Bank Sakhi), हेल्थ सखी (Helth Sakhi), टेक्सी वसूली सखी (Tax Sakhi), नल कर सखी जैसे काम भी महिलाएं ही गांव (Village) और  पंचायतों (Panchayt) में कर रहीं हैं. अब यह नवाचार यदि सफल रहा तो संभवतः  पूरे देश में यह काम भी महिलाओं को दिया जा सकता है. 

self help group Ajeevika Mission pilot project Bank Sakhi Tax Sakhi Lachnow Meter Reader Sakhi