घुड़सवारी और शूटिंग में 'गोल्डन बेटियों' का इंदौर ने किया सम्मान

देश में नाम रोशन करने वाली इंदौर की दो बेटियों का सम्मान किया गया. एशियाड गेम्स में गोल्ड मेडल लाने वाली सुदीप्ति हजेला और थल सैनिक कैम्प में एनसीसी सर्विस शूटिंग में गोल्ड मेडल लाने वाली अस्मि का सम्मान किया गया.

author-image
विवेक वर्द्धन श्रीवास्तव
एडिट
New Update
SUDIPTI WD PM MODI

सुदीप्ति हजेला का सम्मान करते हुए PM NARENDRA MODI (Images: Ravivar Vichar) 

हाल ही में चीन (China) में आयोजित एशियाड गेम्स  में घुड़सवारी (Horse Riding) में गोल्ड मेडल (Gold Medal) जीतने वाली सुदीप्ति हजेला (Sudipti Hajela) और नई दिल्ली (New Delhi) में थल सैनिक ऑल इंडिया एनसीसी कैम्प में गोल्ड मेडल (Gold Medal) जीतने वाली अस्मि को श्री कायस्थ सभा इंदौर और अन्य सहयोगी संस्थाओं ने सम्मान किया.   

खुद भरोसा और मेहनत ही मंज़िल का राज़ 

घुड़सवारी में एशियन गेम्स में देश के लिए गोल्ड मेडल लाने वाली सुदीप्ति हजेला  (Sudipti Hajela) ने कहा- "यदि किसी भी मंज़िल को हासिल करना है तो खुद  पर भरोसा और मेहनत ही मंज़िल पर पहुंचने का राज़ है. पोडियम पर खड़े होना और हाथ में तिरंगा मेरी ज़िंदगी में सबसे ज्यादा खुशियों के पल थे. यह सम्मान मेरा नहीं बल्कि देश के साथ उन तमाम बेटियों को समर्पित जो किसी भी हुनर में अपनी मंज़िल पाने के लिए जुटी हुईं हैं."

SUDIPTI GOOGLE

सुदीप्ति हजेला गोल्ड मेडल जीतने के बाद अपने साथियों के साथ  (Images Credits: Google) 



श्री कायस्थ सभा, इंदौर के साथ सहयोगी संस्था नंदनी कायस्थ महिला क्लब और श्री चित्रांश सहयोग, कल्याण समिति और श्री कायस्थ सभा महिला प्रकोष्ट ने यह आयोजन किया.

इस मौके पर अस्मि श्रीवास्तव (Asmi Shrivastava) ने कहा- "शूटिंग हमें ज़िंदगी जीना सिखाती है. लक्ष्य और धैर्यता के बिना लक्ष्य निशाना पर संभव नहीं. विषम अपरिस्थियों में धैर्यता को संतुलित रखना जरुरी है. लगातार मेहनत करते रहने से सफलता जरूर  मिलती है."

बेटियां अब घोड़े पर भी और हाथ में बंदूक भी  

इस मौके पर आयोजन की अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ पत्रकार और शिक्षाविद प्रतीक श्रीवास्तव ने कहा- "यह अच्छा संकेत है कि अब बेटियां घोड़े पर भी बैठ रहीं और हाथ में बंदूक भी थाम रहीं. समाज की महिलाओं को बराबरी से काम का अवसर और उचित सम्मान और साथ ही समाज को बहुआयामी होना होगा. यह  महिला सशक्तिकरण का सबसे बड़ा उदाहरण है."

मुख्य अतिथि देवपुत्र के संपादक केके आस्थाना, समाजसेवी सुशील श्रीवास्तव और शिक्षाविद अंकुर श्रीवास्तव थे.

महिलाओं ने दिखाया अपना हुनर 

इस मौके पर महिलाओं ने स्टॉल्स लगाए. इसमें हाथों से तैयार आइटम्स रखे.  मिलेट्स (Millets) के प्रमोशन के साथ हैंडीक्राफ्ट्स को बढ़ावा दिया गया.

IMG20231028193011

सम्मान समारोह में महिला सशक्तिकरण के लिए स्टॉल्स लगाए  (Images: Ravivar Vichar) 

गरबा उत्स्व और अन्य प्रतियोगिताओं के बच्चों को भी सम्मान दिए गए. वीना श्रीवास्तव, विनोद श्रीवास्तव, वीना श्रीवास्तव, विनोद श्रीवास्तव,  डॉ.तृप्ति सक्सेना, अनीता श्रीवास्तव और महेश श्रीवास्तव सहित पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया. संचालन पिंकी श्रीवास्तव ने किया.            

gold medal New Delhi Horse Riding Sudipti Hajela