किसानों की आर्थिक सेहत का राज़ बना अदरक

खेतों में पसीना बहाने वाले किसानों के चेहरे की रंगत बदल गई. जिस अदरक का उपयोग कई तरह के इलाज में किया जाता वही अदरक इन किसानों की आर्थिक सेहत का राज़ बन गया. मसाला और दवाई में उपयोग आने वाले अदरक की खुशबू किसानों के घरों में फेल रही.

New Update
किसानों की आर्थिक सेहत

अदरक के हरे-भरे खेत जहां बंपर पैदावार हुई (Image: Ravivar Vichar)

MP के Tribal District Badwani के किसानों ख़ासकर महिला किसान दीदियों ने अपने खेतों में ginger लगाकर बंपर पैदावार की. किसानों की मेहनत देख शासन ने इस जिले में One District One Product के तहत इस Product को ही स्वीकृत किया. अब यहां दूसरी फसलों के साथ अदरक का उत्पादन लिया जा रहा.  

FPO बना कर 2 हज़ार किसान कर रहे Ginger की पैदावार 

बड़वानी ज़िले में Farmer Production Organization बना कर अदरक की खेती को बढ़ावा दे रहे. ज़िले में 2 हज़ार किसान अदरक की खेती कर रहे. Nature To Earth FPO से जुड़ी बोरलाय की जयंती पाटीदार बताती है-"हम पहले हमारे यहां कि परंपरागत खेती करते थे.अदरक की बुआई की और अब इसकी भी पैदावार ले रहे.हमें इससे फायदा हुआ."

ginger badwani banner 12

अदरक के खेतों में काम करती हुईं किसान दीदियां (Image: Ravivar Vichar)

इस ज़िले के तलवाड़ा बुज़ुर्ग की सोनाक्षी स्वयं सहायता समूह की दुर्गा मोहन मुलेवा,बागुड़  की श्रद्धा श्याम जाट,मोयदा की सुनीता रमेश हम्मड़, लोनसरा की जानु बाई  गोपाल लछेटा आदि भी अदरक की खेती कर रहे. सभी का कहना है हमें नई फसलों के साथ खेती में सीखने के साथ आर्थिक स्थिति में सुधार भी हुआ.

300 से ज्यादा किसान दीदियां खेती में सक्रिय 

Tribal Culture और Tribal farming के बावजूद अब बड़वानी जिले के किसान आधुनिक फसलों और Organic Farming को अपनाने लगे. Nuture To Earth Farmer Production Organization से जुड़े समाजसेवी और कृषक चंद्रशेखर चौहान बताते है-"किसान उत्पादक संगठन से जुड़ने में किसान दीदियों ने भी बहुत रूचि दिखाई.मैंने आठ एकड़ ज़मीन पर अदरक लगाया.लगभग 640 क्विंटल का उत्पादन हुआ.हमने Indore और Bhopal मंडी में यह अदरक बेचा.अच्छी कमाई हुई. इस बार 140 रुपए किलो तक अदरक बिका. सभी किसान दीदियों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ."

ginger badwani tractor

अदरक उत्पादन के बाद मंडी में ले जाने की तैयारी करते किसान दीदियां ((Image: Ravivar Vichar)

Ajeevika Mission  के District Project Manager (DPM) Yogesh Tiwari बताते हैं-इस प्रोजेक्ट में horticulture विभाग का सहयोग रहा.FPO और SHG से जुडी महिलाएं इस Ginger Production में मेहनत कर रही. हम self help group की महिलाओं को अलग-अलग क्षेत्र में लगातर ट्रेनिंग करवाते हैं."

ODOP के तहत जिला प्रशासन,जिला पंचायत के अधिकारी के अलावा Commissioner Indore Deepak Singh खुद संभाग के सभी ज़िले की अपडेट लेकर किसानों को प्रोत्साहित कर रहे.साथ ही marketing की व्यवस्था के लिए अधिकारियों को  निर्देश दिए कि किसानों और समूह की महिलाओं को गाइड करें.    

SHG FPO self help group Organic Farming One District One Product ODOP Farmer Production Organization Nature To Earth FPO