SHG के सपोर्ट के लिए और बनेंगे ग्राम संगठन

यूपी में स्वयं सहायता समूह को और मजबूत बनाने के लिए नए ग्राम संगठन बनाए जाएंगे. प्रदेश स्तर पर यह आदेश जारी  किए गए. इस आदेश के साथ ही प्रोग्रेस की समीक्षा भी होगी. यह सब कुछ स्टेट लेवल से कंट्रोल होगा.

author-image
विवेक वर्द्धन श्रीवास्तव
एडिट
New Update
vo mtng

ग्राम संगठन के सहयोग से मीटिंग में शामिल SHG समूह सदस्य (File Photo) (Images: Ravivar Vichar)

उत्तर प्रदेश (Uttar Prdesh) में उप मुख्यमंत्री (Dy.Chief Minister) केशव प्रसाद मौर्य (Kaishav Prasad Maury) ने ग्राम्य विकास विभाग (Ruarl Development Department)  के अधिकारियों को ग्राम संगठन (Village Organization) दलों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए. इस गठन का मकसद स्वयं सहायता समूह (Self Help Group) सदस्यों का मनोबल बढ़ाना है. 

विलेज ऑर्गेनाइज़ेशन की संख्या बढ़ाने पर फोकस 

लखनऊ (Lucknow) में हुई मीटिंग में  उप मुख्यमंत्री (Dy.Chief Minister) केशव प्रसाद मौर्य (Kaishav Prasad Maury) ने कहा- "प्रदेश में महिलाओं का मनोबल बढ़ाने और उनको सहयोग देने के लिए 20 ग्राम संगठन बनाए जाएं. समूह सदस्यों के साथ वंचित महिलाओं को भी जोड़ें. उनकी स्थिति सुधारने के साथ ग्राम संगठन की संख्या बढ़ाने पर फोकस करें. 700  से बढ़ाकर नए फाइनेंशियल ईयर में 4 हजार का टारगेट रखें."

आजीविका मिशन (Ajeevika Mission) के कामों की प्रगति की समीक्षा की जिम्मेदारी ग्राम्य विकास (Rural Devolpment) आयुक्त (Commissioner) जीएस प्रियदर्शी (GS Priyadrshi) को दी गई.

   

ग्राम संगठन की भूमिका सबसे अहम 

एक गांव में एक से अधिक भी ग्राम संगठन  (Village Organization) हो सकते हैं.ग्राम संगठन की भूमिका सबसे अहम है. गांव के गरीब परिवारों को समूह के साथ जोड़ना, समूह सदस्यों के कारोबार को आगे बढ़ाने के लिए फिनेंशियल लोन (Financial Loan) की मदद करना, समूहों को बैंक से लिंकेज में सहायता करना साथ ही समूह के सदस्यों सीएलएफ (CLF) की जानकारी देना होता है. इसके पदाधिकारी SHG के पदाधिकारियों में से ही बनाते हैं.  

Ajeevika Mission Commissioner Uttar Prdesh Dy.Chief Minister Kaishav Prasad Maury Ruarl Development Department Village Organization