कोदो कुटकी Processing Unit से महिलाओं की बदलेगी तक़दीर

MP के डिंडोरी में कोदो-कुटकी Processing plant की शुरुआत हुई. इस प्लांट से इस आदिवासी इलाके में SHG की हजारों किसान दीदियों की तक़दीर बदल जाएगी. आर्थिक मजबूती के साथ आत्मविश्वास बढ़ेगा. SHG की महिलाएं इस सौगात से बहुत खुश है.

New Update
कोदो कुटकी Processing Unit से महिलाओं की बदलेगी तक़दीर Banner

कोदो कुटकी प्लांट का शुभारंभ करते मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते(Image:Ravivar Vichar) 

MP के Dindori जिले के हिनौता में केंद्रीय राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कोदो-कुटकी प्रस्संकरण इकाई का शुभारंभ किया. Tribal District में Kodo Kutki जैसी फसलों को न केवल अच्छे दाम मिलेंगे बल्कि UN 2023 Millets Of the Year का सपना भी साकार होगा.     

10 हजार Tribal किसान दीदियों को मिलेगा फायदा 

MP के डिंडोरी जिले में कोदो-कुटकी Processing Plant का शुभारंभ करते हुए Central State  Minister Fuggan Singh Kulaste ने कहा-"यह आदिवासी जिले के लिए बड़ी उपलब्धि है.यहां किसान दीदियों की उपज को खेत से ही खरीद कर सीधे प्लांट में भेजा जाएगा. ये महिलाएं आत्मनिर्भर और आर्थिक रूप से मजबूत होंगी.स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को लखपति दीदी बनाना ही सरकार मकसद है."

kodo kuatki plant banner 01

प्लांट प्रोसेसिंग को समझते मंत्री कुलस्ते (Image: Ravivar Vichar)

प्रदेश के डिंडोरी और मंडला जिले के छह ब्लॉक से जुड़ीं  Self Help Group की 10 हजार से ज्यादा किसान दीदियों को सीधा फायदा मिलेगा .ये सभी  Farmer Production Organization से जुड़ीं हुईं हैं.

FPO के CEO Balram Vishwakarma ने बताया-"यह इस आदिवासी इलाके के लिए बढ़ीं उपलब्धि है. हिनौता पंचायत के जोगी टिकरिया में यह unit लगाई गई. इस प्लांट की  लागत लगभग 2 करोड़ 23 लाख रुपए है. इस प्लांट में हर घंटे 1 मीट्रिक टन कोदो-कुटकी का प्रोसेसिंग हो सकेगा. साल में 2 हजार टन प्रोसेसिंग होगी. Baiga Chak Women Farmer Production Producer  Company Ltd के जरिए किसान परिवारों से फसल खरीदी जाएगी. जिसे प्लांट में भेज कर 'कान्हा भोज' चावल के नाम से पैकेजिंग किया जाएगा."

प्लांट से Marketing और Quality को मिलेगा बढ़ावा 

इस प्लान के लगने से किसान दीदियां खुश हैं.किसान उत्पादक संगठन से जुड़ी Bord of director Shashi Meshram और Man kumari Maravi कहती हैं-"संगठन ने 2020 में केवल 10 महिलाओं के साथ शुरुआत की.आज हमारे साथ 10 हजार महिला किसान जुड़ गई. यूनिट लग जाने से कोदो-कुटकी उपज को क्वालिटी और मार्केटिंग में फायदा मिलेगा.इससे हमारी फसल और प्रोडक्ट्स के भाव अच्छे मिलेंगे."

kodo kuatkai plant 04

प्लांट यूनिट में कंपनी के अधिकारी और SRLM के अधिकारी (Image: Ravivar Vichar) 

Ajeevika Mission District Project Manager (DPM) Meena Parte कहती हैं-"यह प्लांट आदिवासी जिले डिंडोरी और मंडला के के Self Help Group की महिलाओं के लिए वरदान साबित होगा.हमारा लक्ष्य भविष्य में 20 हजार दीदियों को शेयर होल्डर बना कर फायदा पहुंचाना है. हम लगातार प्रोत्साहन देकर खेती में उपज बढ़ने का प्रयास कर रहे."

kodo kuatki pack 03    कान्हा भोज पैक (Image: Ravivar Vichar) 

 इस project को लेकर State Project Manager (SPM) (Ag) Manish Singh Pawar कहते हैं-"हमारी मेहनत सफल हुई.  DAY National Rural Livelihood Mission (NRLM) और State Rural Livelihood Mission (SRLM) ने इस प्रोजेक्ट के लिए funding की.यह project 14 करोड़ का है.भविष्य में 400 से ज्यादा गांव की महिलाओं को जोड़ेंगे."   

यूनिट के शुभारंभ के मौके पर डिंडोरी जिला पंचायत अध्यक्ष रुद्रेश परस्ते, कलेक्टर (DM) Vikas Mishra ,जिला पंचायत CEO Vimalesh Singh मौजूद थे.         

FPO self help group State Rural Livelihood Mission Farmer Production Organization DAY National Rural Livelihood Mission UN 2023 Millets Of the Year Kodo Kutki